(ये 4 कारण प्रदुषण के)Essay and Causes on air pollution in hindi
Essay and Causes on air pollution in hindi

Essay and Causes on air pollution in hindi

Essay and Causes on air pollution in hindi

प्रदूषण(Pollution)

प्रदूषण(Pollution) मतलब यह होता है कि हवा,ध्वनि और पर्यावरण में दोष या मैलापन पाये जाना ।आप पढ़ रहे है Essay and Causes on air pollution in hindi । आम भाषा में जैसे ना ही जल का शुद्ध होना ना वायु का शुद्ध होना न ही वातावरण(The atmosphere) का शुद्ध होना ना ध्वनि(sound) का शुद्ध होना ना पर्यावरण(environment) का शुद्ध इन सब का विशुद्ध रूप प्रदूषण कहलाता है। प्रकृति के संतुलन में शुद्ध पदार्थों में हानिकारक(Harmful) जेहरीले पदार्थों(Toxic substances) का मिलना आम भाषा में प्रदूषण(Pollution) कहलाता है ।

pollution information in hindi

  • ऐसे बहुत से देश है जहां प्रदूषण की समस्या बहुत बड़ा संकट(Big trouble) ले चुकी है इस समस्या से बहुत से लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ हो रहा है ।
  • पुराने जमाने में प्रदूषण(Pollution) की समस्या या संकट बहुत ही कम था या ना के बराबर था पुराने जमाने के लोगों की जीवन आयु(age) भी लंबी हुआ करती थी अर्थात अधिक जिया करते थे परंतु आज के युग में कारखानों(Factories) की वजह से, मोटर वाहनों(Motor vehicles) की वजह से और इलेक्ट्रिकल सामग्री की वजह से प्रदूषण स्तर(Pollution level) बहुत ज्यादा बढ़ गया है ।
  • हमारे भारत जैसे देश के दिल्ली में प्रदूषण(Pollution in Delhi) का स्तर बहुत ही ज्यादा है दिल्ली जैसे शहर में प्रदूषण जहर के समान कार्य कर रहा है और इस समस्या से बहुत ज्यादा आम जनता(community) ग्रसित है और प्रदूषण से बीमार(Sick) होना आम बात हो गयी है
  • प्रदूषण कई तरह का होता है जैसे वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और जल प्रदूषण।
  • भारत में शहरों का जैसे जैसे उन्नति और विकास(Advancement and development) बढ़ता गया है वैसे वैसे प्रदूषण(Pollution) की समस्या भी बढ़ती गयी और प्रदूषण आम होते गया।
  • भारत के शहरों में व्यवसायो और उद्योग धन्धो(Business and industries) के लिए बड़े-बड़े कारखाने विकसित हो गए हैं इन कारखानों से निकलता धुआँ(Smoke) भी प्रदूषण(Pollution) का कारण बन चुका है।
  • भारत के बड़े नगरों में यह समस्या कुछ ज्यादा ही है क्योंकि हद से ज्यादा मोटर वाहन(Motor vehicle) से निकलता धुआँ, फैक्ट्रियों(Factories) और कारखानों से निकलता धुआँ आदि इन सभी वजह से प्रदूषण लोगों के जीवन का काल बन कर सामने आया है।
  • कुछ शहरों की तो हालत ऐसी भी है कि महिलाएं कपड़ों को धोकर छतों पर सुखाने के बाद,सूखे हुए कपड़ो को देखते है तो उन कपड़ो में हल्के हल्के क्षार जमी हुई रहती है कपड़ो पर यह क्षार प्रदूषण(Pollution) का ही कारण है।

Essay and Causes on air pollution in hindi

  • वायु प्रदूषण से हमारे वायुमंडल का जो संतुलन होता है वह संतुलन असामान्य(Unusual) होता जा रहा है
  • वायुमंडल(Atmosphere) में जहरीली गैसों(Poisonous gases) का प्रभाव और प्रकोप धीरे धीरे हर प्रत्येक दिन बढ़ता ही जा रहा है
  • जब ज्वालामुखी का विस्फोट होता है इससे भी वायु का प्रदूषण होता है
  • कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड आदि यह सभी गैसे ही शुद्ध वायु हवा में मिलकर हवा को प्रदूषित करती जा रही है और वायु प्रदूषण का बनती जा रही है
  • वायु प्रदूषण(air pollution) इसलिए भी हमारे लिए खतरनाक है क्योंकि हम भोजन और पानी से ज्यादा वायु का ग्रहण करते हैं सबसे ज्यादा जरूरत हमे शुद्ध वायु(pure air) की होती है।
  • दूषित वायु(Corrupt air) से मानव की आयु भी कम होती है।
  • हमारे भारत देश के दिल्ली में वायु प्रदूषण(air pollution) का ऐसा हाल है हवा की गुणवत्ता(air quality) इतनी खराब हो चुकी है और वायु प्रदूषण का स्तर(Air Pollution Level) में निरंतर बढ़ोतरी देखी जा रही है ।
  • भारत में सबसे ज्यादा प्रदूषण(highest pollution in India) गुरूग्राम इलाके में मापा गया है गुरुग्राम (Gurgaon) दुनिया का सबसे ज्यादा प्रदूषित नगर(Polluted city) बन चुका है।
  • दिल्ली और गुरुग्राम के आसपास के इलाकों में मोटर गाड़ियों(Motor vehicles) के ज्यादा इस्तेमाल से हमारे (pollution in india)भारत में प्रदुषण का स्तर इतना ज्यादा बढ़ चुका है ।
  • विश्व का सबसे ज्यादा प्रदूषित नगर(Polluted city) गुरुग्राम को बताया गया है।
  • कार्बन मोनो ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड मिलकर वायु को बहुत ही ज्यादा दूषित कर रही है,जहरीली गैसों के साथ साथ कई प्रकार के अम्ल की घुलनशीलता भी शुद्ध वायु में मिलकर दूषित करती है कार्बन मोनो ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड मिलकर वायु को बहुत ही ज्यादा दूषित कर रही है जहरीली गैसों के साथ साथ कई प्रकार के अम्ल की घुलनशीलता भी शुद्ध वायु में मिलकर दूषित करती है।

कारखानों और उद्योग धंधों से वायु प्रदूषण

  • भारत में शहरों के कल-कारखानों से निकलता धुँआ वायु प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण है
  • हमारे भारत देश में जो बड़े-बड़े नगर या शहर है उनमें कारखानों से निकलते धुँए की समस्या लगभग सभी नगरों में देखने को मिलेगी इस समस्या से हर नगरवासी संकटग्रस्त है
  • सीमेंट के जो प्लांट होते हैं उनमें से जब धुँआ निकलता है इस प्लांट के धुआ में कार्बन मोनोऑक्साइड होता है जो कि स्वास्थ्य के लिए बेहद ही हानिकारक साबित होता है इससे लोग बीमार पड़ते हैं
  • वायु प्रदूषण से निपटने के लिए पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण उन सभी उद्योग धंधे एवं व्यवसायियों को बंद करने को कहां है जिससे वायु प्रदूषण को बढ़ावा मिलता है
  • बिजनेस , फेक्टरियों के निर्माण से एवं अन्य आर्थिक कारणों के लिए पेड़ों का धड़ल्ले से कटना एक आम बात होती जा रही है
  • पिछले कुछ वर्षों से भारत के बड़े नगरों के साथ-साथ कुछ छोटे नगरों में भी उद्योग कारखाना की संख्या में वृद्धि हुई है
  • इन फैक्ट्रियों से जो धुआं निकलता है यह धुँआ आस-पास के गांव के लोगो को भी प्रभावित कर रहा है
  • पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण अनुसार दिल्ली एनसीआर में अगली बार वायु की जो गुणवत्ता है यह हवा की गुणवत्ता में हानिकारक एवं विषैली हवा पाई जाती है तो प्रदूषण केंद्रों में मौजूद उद्योगों को बंद किया जा सकता है
  • कभी कभी उद्योग धंधों में दुर्घटना हो जाती है इनके कारण भी वायु प्रदूषित हो रही है

वृक्षों की कटाई से वायु प्रदूषण

  • प्रदूषण पर एक कारण और भी हैं यहां पर वृक्षों और पेड़ों की कमी की मात्रा को हम बढ़ा ले तो वायु प्रदूषण से कुछ हद तक तक छुटकारा पाया जा सकता है
  • विश्व भर में जनसंख्या की वृद्धि तेजी से होती जा रही है इसलिए मनुष्य जंगलों को काटकर रिहाईश के नए-नए रास्ते तलाश रहे हैं
  • पेड़ो से ही हमे आक्सीजन गैस मिलती है पेड़ो के अंधाधुन्द कटने से ऑक्सीजन का मात्रा में कमी हो सकती है
  • पेड़ों के ज्यादातर मात्रा में काटने से जो पेड़ हमें ऑक्सीजन गैस प्रदान करते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड का शोषण करते हैं

वायु प्रदूषण से रोगों का जन्म

  • वायु प्रदूषण से बहुत से रोगों का जन्म होता है
  • दूषित हवा हमारी श्वास के द्वारा फेफड़ों में जाती हैं और यह कई रोगों के कारण बनती है
  • वायुमंडल में जहरीली गैसों का प्रभाव और प्रकोप धीरे धीरे हर प्रत्येक दिन बढ़ता ही जा रहा है,इससे भी मनुष्य के स्वस्थ के साथ खिलवाड़ हो रहा है
  • स्वस्थ रहने के लिए शुद्ध वायु का होना बहुत ही बहुत ही जरूरी है
    वर्ष 2015 के आंकड़ों पर हम नजर डालें तो विश्व में 1100000 मौत प्रदूषण की वजह से हो चुकी है
  • धुँए से मनुष्य का श्वास लेना भी मुश्किल हो गया है
  • जो हवा हम श्वास के रूप में ले रहे हैं उसमें कई जहरीली गैस एवं हानिकारक धूल के कण उपस्थित है जो हमारे स्वास्थ्य में असामान्य रूप से गड़बड़ी पैदा कर रहे हैं
  • प्रदूषण से होने वाले रोगों में सबसे पहला रोग अस्थमा है अस्थमा की बीमारी शहरी क्षेत्रों में लगातार बढ़ते ही जा रही है
  • वायु प्रदुषण से श्वसन तंत्र में शिथिलता भी हो रही है यह रोग वायु प्रदूषण से होने वाले रोगों में सम्मिलित है
  • आज कल शहरी क्षेत्रों में वायु प्रदूषण के कारण दिल का दौरा जैसी गंभीर समस्याओं ने भी जन्म ले लिया है
  • वायु प्रदूषण के कारण दिल का दौरा अब किसी भी आयु में आ रहा है
  • आंखों के लिए भी वायु प्रदूषण का धुँआ इतना खतरनाक साबित हो रहा है
  • वायु प्रदूषण से होने वाले नेत्र रोगों में आंखों में इंफेक्शन होना, आंखों में एलर्जी होना, नजरों का कमजोर पड़ना भी शामिल है
  • वायु में अशुद्ध गैस इतनी जहरीली हो गयी है कि यह शरीर के अंदर पहुंचते ही त्वचा संबंधित रोगों के जन्म का कारण बनती जा रही है
  • हवा के प्रदूषण से हमारे मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है हमारे दिमाग की कार्य प्रणाली पर भी असर डाल रहा है
  • सीमेंट के जो प्लांट होते हैं उनमें से जब धुँआ निकलता है इस प्लांट के धुआ में कार्बन मोनोऑक्साइड होता है,जो कि स्वास्थ्य के लिए बेहद ही हानिकारक साबित होता है
  • अगर हवा ही हमें प्रदूषित मिलेगी तो हमारे स्वास्थ्य में गहरा खतरनाक प्रभाव पड़ेगा
  • वायु के प्रदूषण(Air pollution) से बहुत से रोगों का जन्म(Born of diseases) होता है और भारत में प्रदूषण कुछ ज्यादा ही फैला हुआ है।

मोटर गाड़ियों से वायु प्रदुषण

  • मोटर गाड़ियों से निकलता धुँआ वायु को प्रदूषित करने सबसे बड़ा कारण साबित हुआ है
  • मोटर गाड़ियों से निकलते धुँए में बहुत सी जहरीली गैसे पायी जाती है
  • जहरीली गैसों से वायुमंडल प्रदूषित होता रहता है और वायु की गुणवत्ता(वायु में जो गुण होते हैं) को यह जहरीली गैस कम कर देते हैं
  • वायु प्रदूषण के बड़े कारणों में मोटर गाड़ियों का अधिक इस्तेमाल होना भी पाया गया है
  • मोटर वाहन से निकलने वाला धुआं वायु में मिलकर हवा को दूषित करने लगता है
  • शहर के बाजारों में मोटरसाइकिलों का,कारों का अधिक उपयोग और डीजल इंजन से संबंधित भारी वाहनों का सड़कों पर दौड़ना इन सबके धुँए से असामान्य रूप से प्रदुषण फैलता है
  • भारत के शहरों में मोटर गाड़ियों के धुए से बहुत ही ज्यादा जहरीली हवा शुद्ध वायु में मिलती जा रही है
  • अगर इस तरह से ही मोटर गाड़ियों के धुए से प्रदूषण बढ़ता गया तो यह समस्या विराट रूप ले लेगी
  • इस समस्या से निपटने का एक उपाय यह भी है कि सभी पेट्रोल पंप में प्रदूषण चेक करने मशीन लगाई जाए इससे फायदा यह होगा कि हर वाहन का प्रदूषण मापा जाएगा
  • हमारे देश भारत के शहरों में पिछले 10 वर्षों में मोटर गाड़ियों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है

रिहाईश भी है वायु प्रदुषण का कारण

  • रिहाईश के लिए पेड़ो की कटाई अगर ऐसे ही जारी रही तो कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ता ही चला जाएगा जिससे भविष्य में गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे
  • एक कारण वायु प्रदूषण का यह भी है कि शहर में रिहाईसी बसावट वाहनों से कम तथा वाहनों की आवाजाही रिहाईश से ज्यादा हो गई है
  • शहर में घरों से कई गुना ज्यादा मोटर गाड़ियां हो चुकी है इससे भी विशेषकर हमारे भारत के नगरों में ज़हरीली गैसों का स्तर बहुत अधिक तक बढ़ गया है
  • मनुष्य जंगलों में पेड़ों को काटकर अपनी रिहाई के नए-नए साधन तलाश रहे हैं
  • और पेड़ो के कटने से यह रिहायशी इलाके इतनी ज्यादा हो चुके हैं इन्होंने जंगलों की कई जगह को रिहायशी इलाकों में बदल दिया है
  • बढ़ती हुई आबादी की वजह से पेड़ों का रिहायशी इलाकों में बदलना आम बात हो गयी है
  • रिहायशी इलाकों की वजह से वायु के प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी पाई गई है
  • पहले जो इलाके शहरों के करीब-करीब पेड़ पौधों से भरे रहते थे वह अब रिहायशी इलाके बन चुके हैं
  • रिहाईश के साधन और प्रॉपर्टीज के बिज़नेस में मानव इतना अंधा हो चुका है मनुष्य अंधाधुन पेड़ों की कटाई और वातावरण को दूषित करने का खुद जिम्मेदार है
  • पिछले कुछ वर्षों में बड़े-बड़े कॉलोनी, खूबसूरत रेजिडेंशियल क्षेत्र, वीआईपी रिहायशी इलाकों का निर्माण हो चुका है और यह निर्माण पेड़ों की अंधाधुंध कटाई करके किया गया है
  • शहरों से लगे गांव का शहरीकरण होता जा रहा है हरे भरे गांव शहर में तब्दील हो रहे हैं यह वायु प्रदूषण का बहुत बड़ा कारण बन चुका है
  • पेड़ों को काट कर बनाए गए रिहायशी इलाके वायु के प्रदूषण के लिए इसलिए भी जिम्मेदार है क्योंकि पेड़ों के कटने से ग्लोबल वार्मिंग का खतरा बढ़ रहा है
  • रिहायशी इलाकों में छोटे बड़े उद्योगों के लिए कल कारखानों का निर्माण होना
  • रिहायशी इलाकों में आम जन और व्यवसाय के लिए ज्यादा से ज्यादा मोटर वाहन का जाना वायु के प्रदूषण में तेजी ला रहा है

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.